22-11-2017 07:27:am
निगम अधिकारियों ने चौपाटी कारोबारियों के सामने रखी शर्तें  || चेक का क्लोन बनाने वाला पकड़ा  || जेयू के प्रोफेसर अपना दायित्व अच्छे से निभा रहे हैं: प्रो. शुक्ला  || कांग्रेसी मियाद पर हिंदू महासभा ने कहा र्इंट का जवाब पत्थर से देंगे  || स्वच्छता के साथ ही ग्रामीणों को मिलेगा रोजगार  || बहन के घर से भाग जाने पर दुखी भाई ने लगा ली फांसी  || मकान तोड़ने से गुरेज नहीं, सड़क बने बेहतरीन  || सुधारे जाएं सफाई कर्मचारियों के आवास  || गाय से नहीं, 'चारा खाने वालों' से लगता है डर || लापरवाह अफसरों को थमाएंगे नोटिस  || सनी लियोन के साथ काम करना चाहते हैं अरबाज  || कश्मीर घाटी के तापमान में गिरावट || बढ़ रहे चाइल्ड केयर पिता || टीवी धारावाहिकों एवं फिल्मों की अभिनेत्री रीता कोइराल का निधन ||

ग्वालियर राजा मानसिंह संगीत एवं कला विवि की कुलपति ने विवि को बदनाम करने के लिए संस्कृति विभाग से आए दिन झूठी शिकायत करने और उनके अभद्र व्यवहार करने पर कुलसचिव को रिलीव किए जाने की जानकारी संस्कृति विभाग को दे दी है। कुलपति ने वित्त नियंत्रक को कुलसचिव का अतिरिक्त चार्ज दे दिया है। कुलपति प्रो. लवली शर्मा और कुलसचिव राकेश चौहान के बीच शुक्रवार को संस्कृति विभाग के प्रमुख सचिव को परीक्षा प्रभारी उमाशंकर कुलश्रेष्ठ द्वारा आॅनलाइन फीस का काम देखे जाने की शिकायत किए जाने पर विवाद हो गया था, इसे लेकर कुलपति ने कुलसचिव को एक तरफा कार्रवाई करते हुए उन्हें रिलीव कर दिया है। कुलपति का कहना है कि कुलसचिव विवि की छवि धूमिल करने के लिए बिना उनके अनुमोदन के शिकायती पत्र संस्कृति विभाग के भेज रहे थे। इसे लेकर वह उच्च शिक्षा विभाग के मंत्री जयभान सिंह पवैया से 5 नवंबर को मिली थी और कुलसचिव द्वारा किए गए जा रहे कृत्यों की जानकारी देते हुए कहा कि वह कुलसचिव को विवि में देखना नहीं चाहतीं। इस पर मंत्री ने कुलसचिव को लंबी छुट्टी पर भेजने के साथ-साथ ट्रांसफर करने का आश्वासन दिया था। कुलसचिव ने उच्च शिक्षा विभाग को प्रकरण की जानकारी दे दी है। उनका कहना है कि विभाग से मिले आदेश का पालन किया जाएगा।

विभाग को पूरे प्रकरण से अवगत करा दिया है

विवि की कुलपति प्रो. शर्मा का कहना है कि कुलसचिव ने विवि को बदनाम करने के लिए संस्कृति विभाग को झूठी शिकायत की गर्इं साथ ही उन्होंने मेरे साथ ही अभद्र व्यवहार किया गया। इसके चलते ही कुलसचिव को रिलीव करने का निर्णय लेना पड़ा। पूरे प्रकरण की जानकारी संस्कृति विभाग को दे दी है। कुलसचिव द्वारा कई बार रिलीव करने की मांग कर चुके थे, रिलीव किए जाने पर उन्होंने कहा कि जो शासन नहीं कर पाया, वह आपने कर दिया है।

peoplessamachar
NEWS EXPRESS

0

 
अयोध्या में बने मंदिर और लखनऊ में मस्जिद  || अपनी लाइफ को बोरिंग मानते हैं इरफान खान  || सोनिया के आरोप पर जेटली का पलटवार || ज्यूरी में राहुल रवैल ने ली सुजॉय घोष की जगह  || अनुकंपा नियुक्ति को लेकर कोर्ट में दायर मामला खारिज  || फिर से निर्देशन के क्षेत्र में लौट सकते हैं विशेष भट्ट || जर्मनी में सियासी संकट गहराया || जिले में सीमांकन, नामांकन एवं डायवर्सन कराना अब भी टेढ़ी खीर!  || पार्टी ने मुगाबे को किया बर्खास्त || झांसा देकर महिलाओं को ठगने वाला पकड़ा || पाक महिला को वीजा देने के लिए कहा सुषमा ने || इंदिरा गांधी ने बढ़ाया देश का मान : शर्मा || मां पद्मावती का अपमान बर्दाश्त नहीं: सिकरवार || द.अफ्रीका में भारतीय राजनयिक के घर डकैती का प्रयास  || जब तक वेतन नहीं तब तक काम नहीं || अपने ही देश में बताना पड़ रहा संस्कृत भाषा का महत्व : भोपे  ||
© Copyright 2016 By Peoples Samachar.