22-11-2017 07:26:am
निगम अधिकारियों ने चौपाटी कारोबारियों के सामने रखी शर्तें  || चेक का क्लोन बनाने वाला पकड़ा  || जेयू के प्रोफेसर अपना दायित्व अच्छे से निभा रहे हैं: प्रो. शुक्ला  || कांग्रेसी मियाद पर हिंदू महासभा ने कहा र्इंट का जवाब पत्थर से देंगे  || स्वच्छता के साथ ही ग्रामीणों को मिलेगा रोजगार  || बहन के घर से भाग जाने पर दुखी भाई ने लगा ली फांसी  || मकान तोड़ने से गुरेज नहीं, सड़क बने बेहतरीन  || सुधारे जाएं सफाई कर्मचारियों के आवास  || गाय से नहीं, 'चारा खाने वालों' से लगता है डर || लापरवाह अफसरों को थमाएंगे नोटिस  || सनी लियोन के साथ काम करना चाहते हैं अरबाज  || कश्मीर घाटी के तापमान में गिरावट || बढ़ रहे चाइल्ड केयर पिता || टीवी धारावाहिकों एवं फिल्मों की अभिनेत्री रीता कोइराल का निधन ||

मुंबई। रणजी इतिहास की सबसे सफल टीम मुंबई ने अपने 500 वें रणजी मैच में हार टाल दी और बड़ौदा के खिलाफ ग्रुप सी मैच रविवार को चौथे और अंतिम दिन ड्रॉ करा लिया। मुंबई ने मैच ड्रॉ समाप्त होने तक अपनी दूसरी पारी में सात विकेट पर 260 रन बनाये। मुंबई को उसके रिकॉर्ड मैच में हार की शर्मिंदगी से बचाने का श्रेय जाता है सातवें नंबर के बल्लेबाज सिद्धेश लाड को जिन्होंने बड़ौदा के गेंदबाजों के खिलाफ अड़कर खेलते हुए 238 गेंदों का सामना किया और नाबाद 71 रन में सात चौके लगाए। सिद्धेश ने ऐसे समय मोर्चा संभाला जब मुंबई के पांच विकेट मात्र 125 रन पर गिर चुके थे। सिद्धेश ने सूर्यकुमार यादव (44) के साथ छठे विकेट के लिए 79 रन की बेशकीमती साझेदारी की। उन्होंने फिर अभिषेक नायर (8) के साथ सातवें विकेट के लिए 50 रन जोड़कर मैच ड्रॉ करा दिया।

peoplessamachar
NEWS EXPRESS

0

 
अयोध्या में बने मंदिर और लखनऊ में मस्जिद  || अपनी लाइफ को बोरिंग मानते हैं इरफान खान  || सोनिया के आरोप पर जेटली का पलटवार || ज्यूरी में राहुल रवैल ने ली सुजॉय घोष की जगह  || अनुकंपा नियुक्ति को लेकर कोर्ट में दायर मामला खारिज  || फिर से निर्देशन के क्षेत्र में लौट सकते हैं विशेष भट्ट || जर्मनी में सियासी संकट गहराया || जिले में सीमांकन, नामांकन एवं डायवर्सन कराना अब भी टेढ़ी खीर!  || पार्टी ने मुगाबे को किया बर्खास्त || झांसा देकर महिलाओं को ठगने वाला पकड़ा || पाक महिला को वीजा देने के लिए कहा सुषमा ने || इंदिरा गांधी ने बढ़ाया देश का मान : शर्मा || मां पद्मावती का अपमान बर्दाश्त नहीं: सिकरवार || द.अफ्रीका में भारतीय राजनयिक के घर डकैती का प्रयास  || जब तक वेतन नहीं तब तक काम नहीं || अपने ही देश में बताना पड़ रहा संस्कृत भाषा का महत्व : भोपे  ||
© Copyright 2016 By Peoples Samachar.