24-02-2018 03:37:am
संविदा स्वास्थ्यकर्मियों ने बेचे मंगौड़े || ईसी व शिक्षकों में मुंहवाद, बोले-मैं कमजोर आदमी हूँ , वीसी के पास जाओ || लंबित प्रकरणों का निराकरण प्राथमिकता से करें || पीएम पुरस्कार देने फील्ड का जायजा लेंगे केंद्र के अफसर || प्रत्याशी नहीं, शिवराज और सिंधिया के बीच मुकाबला || देवलिया और ठाकुर बने विस पत्रकार दीर्घा समिति के सदस्य || पांच राज्यों के बजट पर आधारित होगा एमपी का बजट || सीएस के जाते ही अफसरों की रवानगी हुई शुरू || देशी मदिरा की खपत 3% गिरी तो बीयर में आया 6% का उछाल || उद्धव-गोपी संवाद से भाव-विभोर हुए श्रद्धालु || 21 साल की लड़की ने बॉयफ्रेंड के किए टुकड़े || टर्नबुल ने उप प्रधानमंत्री से पद छोड़ने को कहा || शिवसेना ने कसा नीरव पर तंज || ‘कसौटी जिंदगी की’ का सीजन 02 आएगा  || मेनका का अपशब्द कहते वीडियो चर्चा में || पाकिस्तान में बच्ची से रेप मामले में फांसी || दिल्ली में शराब दुकानों में लगेंगे सीसीटीवी कैमरे  || तेजी से लुप्त हो रहे वनमानुष || महामस्तकाभिषेक: राजस्थानी मार्बल कारोबारी ने 12 करोड़ रुपए में खरीदा पहला कलश || रणवीर सिंह पर भी चढ़ा प्रिया का खुमार, शेयर की फोटो  || 'बीइंग ह्यूमन' ब्लैक लिस्टेड ! || अंत्येष्टि के लिए नहीं थे पैसे , मां को दान करना पड़ा बेटे का शव || दिल्ली उच्च न्यायालय ने रॉबर्ट वाड्रा से संबद्ध संस्था की याचिका की खारिज  || भारत और ईरान के बीच 9 समझौतों पर हुए हस्ताक्षर  || सरकार ने जारी किया ऑटो पॉलिसी का ड्राफ्ट  || आरक्षण के खिलाफ गीतानंद महाराज ने छोड़े अन्न व जूते-चप्पल || महिंद्रा ने जूमकार के साथ मिलाया हाथ ||

भोपाल। राज्य शिक्षा केन्द्र (आरएसके) द्वारा ‘रटंत विद्या’ की जगह ‘घोटंत विद्या’ को विशेष तरजीह दी जा रही है। इसी के चलते प्रायमरी व मिडिल स्कूल की वार्षिक परीक्षाओं को रोचक बना दिया गया है। अब पहली व दूसरी कक्षाओं के बच्चे पेपर हल करने के बजाय एक महीने तक वर्क बुक भरेंगे। इसके अलावा अन्य कक्षाओं की परीक्षाओं के साथ वर्कशीट भरना अनिवार्य कर दिया गया है। इस परीक्षा के साथ आगामी परीक्षाओं के लिए उनकी प्रतिभा में निखार आएगा। प्रायमरी स्कूल पूरी शिक्षा की नींव होते हैं। राज्य शिक्षा केन्द्र ने इस नींव को मजबूत करने के लिए अनेक कदम उठाए हैं। पहली व दूसरी कक्षाओं में बच्चे अधिकांश चीजें देखकर सीखते हैं। इसी को मद्देनजर रखते हुए राज्य शिक्षा केन्द्र ने इन कक्षाओं का सिलेबस तैयार किया है। वर्क बुक के रूप में तैयार की गई इन सचित्र पाठ्य पुस्तकों का उपयोग इस वर्ष फरवरी माह में भरवाकर बच्चों का मूल्यांकन किया जाएगा। अगले सत्र से यह पुस्तकें जुलाई में स्कूलों में पहुंच जाएंगी और बच्चे इन्हीं पुस्तकों का अध्ययन करेंगे। इस वर्ष यह वर्क बुक दिसंबर-जनवरी में पहुंची हैं, इसलिए इनका उपयोग मूल्यांकन के रूप में किया जा रहा है।

क्या है वर्क बुक में

पहली व दूसरी कक्षा के लिए तैयार की गई यह वर्क बुक पूरी तरह रंगीन है। इन पुस्तकों को कक्षाओं के कोर्स के मुताबिक तैयार किया गया है। बच्चे लंबा वाक्य पढ़ने के बजाय चित्र देखकर खाली स्थान भरते हैं, फिर पूरा वाक्य मिलाकर पढ़ते हैं, जो आसानी से याद हो जाता है। इसी तरह गणित के सवालों को भी पशु, पक्षी व वस्तुओं के चित्र से समझाया गया है।

peoplessamachar
NEWS EXPRESS

0

 
एयरपोर्ट विस्तार के लिए 122 करोड़ के कार्यादेश जारी || विद्युतीकरण से साल में होगी 150 करोड़ की बचत || कोलारस में कांग्रेस प्रत्याशी पुलिस के लाठीचार्ज में घायल || तेल व्यापारियों के यहां छापा मारने बाराती बनकर पहुंची आईटी टीम || राज्यपाल 3 सौ स्टूडेंट को आज देंगी स्कॉलरशिप || पीएससी: आधा दर्जन प्रश्नों के उत्तर गलत || अब फौरन पकड़े जाएंगे कॉलेजों में फर्जी दाखिले || बताएं, विश्वविद्यालयों में डिजिटलाइजेशन हुआ या नहीं || गर्मी के साथ खाकी वर्दी की आस्तीनें फिर उतरीं  || उपायुक्त राजपूत का तबादला, सागर स्मार्ट सिटी के सीईओ बने || स्वच्छता सर्वेक्षण टीम को लक्ष्मीगंज सब्जी मंडी में मिली गंदगी, तो टॉयलेट में मिला अंधेरा  || भयभीत गल्ला व्यापारियों ने काम बंद करने की घोषणा की || जिला स्तरीय अंत्योदय मेला फ्लॉप, दिव्यांगों ने किया हंगामा || 50 दुकानों के सामने से हटाया अवैध सामान || अंतिम छोर तक के व्यक्ति को मिले योजनाओं का लाभ : सिंह || महिलाएं बोलीं: मैडम बच्चों को पढ़ाने से रोकते है || मोबाइल झपटने वाले पकड़े || वन कर्मियों से मारपीट कर नक्सली घुस गए कान्हा में || महिला की एसिड पीने से मौत, अधेड़ ने जहर खाया || मोबाइल नं.वायरल होने से परेशान छात्रा ने पीया जहर || घनी आबादी में चल रहा फर्नीचर गोदाम खाक || नल लगे नहीं और 10 से 12 हजार रुपए का टैक्स पहुंचा दिया || महानगरी एक्सप्रेस में जहरखुरानी, 3 युवक शिकार || इंदौर से पीएम मोदी के नाम बच्चों ने लिखी पाती || शहर में 140 और शहर से बाहर 110 बसें चलाने की है योजना || एक युवा के जज्बे ने बदल दी 40 बेसहारा बच्चों की जिंदगी || बैरागढ़ स्टेशन आने वाली 15 ट्रेनों का टाइम बदला ||
© Copyright 2016 By Peoples Samachar.