24-02-2018 03:33:am
संविदा स्वास्थ्यकर्मियों ने बेचे मंगौड़े || ईसी व शिक्षकों में मुंहवाद, बोले-मैं कमजोर आदमी हूँ , वीसी के पास जाओ || लंबित प्रकरणों का निराकरण प्राथमिकता से करें || पीएम पुरस्कार देने फील्ड का जायजा लेंगे केंद्र के अफसर || प्रत्याशी नहीं, शिवराज और सिंधिया के बीच मुकाबला || देवलिया और ठाकुर बने विस पत्रकार दीर्घा समिति के सदस्य || पांच राज्यों के बजट पर आधारित होगा एमपी का बजट || सीएस के जाते ही अफसरों की रवानगी हुई शुरू || देशी मदिरा की खपत 3% गिरी तो बीयर में आया 6% का उछाल || उद्धव-गोपी संवाद से भाव-विभोर हुए श्रद्धालु || 21 साल की लड़की ने बॉयफ्रेंड के किए टुकड़े || टर्नबुल ने उप प्रधानमंत्री से पद छोड़ने को कहा || शिवसेना ने कसा नीरव पर तंज || ‘कसौटी जिंदगी की’ का सीजन 02 आएगा  || मेनका का अपशब्द कहते वीडियो चर्चा में || पाकिस्तान में बच्ची से रेप मामले में फांसी || दिल्ली में शराब दुकानों में लगेंगे सीसीटीवी कैमरे  || तेजी से लुप्त हो रहे वनमानुष || महामस्तकाभिषेक: राजस्थानी मार्बल कारोबारी ने 12 करोड़ रुपए में खरीदा पहला कलश || रणवीर सिंह पर भी चढ़ा प्रिया का खुमार, शेयर की फोटो  || 'बीइंग ह्यूमन' ब्लैक लिस्टेड ! || अंत्येष्टि के लिए नहीं थे पैसे , मां को दान करना पड़ा बेटे का शव || दिल्ली उच्च न्यायालय ने रॉबर्ट वाड्रा से संबद्ध संस्था की याचिका की खारिज  || भारत और ईरान के बीच 9 समझौतों पर हुए हस्ताक्षर  || सरकार ने जारी किया ऑटो पॉलिसी का ड्राफ्ट  || आरक्षण के खिलाफ गीतानंद महाराज ने छोड़े अन्न व जूते-चप्पल || महिंद्रा ने जूमकार के साथ मिलाया हाथ ||

नई दिल्ली। देश के कृषि वैज्ञाानिकों ने करेले की एक ऐसी संकर किस्म का विकास किया है, जो मधुमेह बीमारी को नियंत्रित करने में और अधिक कारगर सिद्ध होगी। भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान (आईएआरआई) ने वर्षों के अनुसंधान के बाद करेले की नई किस्म पूसा हाईब्रिड -4 का विकास किया है। किसानों के लिए इसकी व्यावसायिक खेती करेले की अन्य किस्मों की तुलना में न केवल लाभदायक है, बल्कि इसमें अधिक औषधीय तत्व हैं। करेले की अन्य संकर किस्मों की तुलना में नई किस्म में 15 दिन पहले फल लगने लगते हैं और इसका उत्पादन भी 20 से 30 प्रतिशत अधिक है। आईएआरआई के सब्जी अनुसंधान से जुड़े वैज्ञानिक तुषार कांति बेहरा ने बताया कि पूसा हाईब्रिड -4 में पारांटिन, मोमोडीसीन और सपोनीन जैसे तत्व पाये जाते हैं, जो इसे मधुमेहरोधी बनाता है। मधुमेह के रोगी आहार में करेला की इस किस्म को शामिल करते हैं तो यह पित्ताशय को सक्रिय करता है जिससे इंसुलिन का निर्माण होता है तथा रोगियों को राहत मिलती है।

45 दिन में फल

करेले में कैलोरी बहुत कम होती है और यह विटामिन बी 1, बी 2 और बी 3 का अच्छा स्रोत है। इसमें विटामिन सी, मैग्निशियम, जिंक, फास्फोरस आदि तत्व पाए जाते हैं। इसमें अधिक मात्रा में फाइबर भी पाया जाता है। यह रक्त के विकारों को भी ठीक करता है। डॉ. बेहरा ने बताया कि आमतौर पर करेले की फसल में 55 से 60 दिनों में फल आने शुरू होते हैं, जबकि नई किस्म में 45 दिन में फल लग जाते हैं। इसके साथ ही इसकी पैदावार भी 20 से 30 प्रतिशत अधिक है।

औसत वजन 60 ग्राम

गहरे हरे रंग का यह करेला मध्यम लम्बाई और मोटाई का है जिसका औसत वजन 60 ग्राम होता है। इसकी पैदावार प्रति हेक्टेयर 22 टन से अधिक है। उन्होंने बताया कि नयी किस्म दो बार फरवरी के अंत और मार्च में तथा अगस्त एवं सितम्बर के दौरान लगाई जाती है। लगभग चार माह तक इसमें फल लगते हैं और एक एकड़ में इसकी खेती से 50 से 60 हजार रुपये की आय हो सकती है। करेले की यह एक ऐसी किस्म है जिससे जमीन और मचान पर भी भरपूर पैदावार ली जा सकती है।

peoplessamachar
NEWS EXPRESS

0

 
एयरपोर्ट विस्तार के लिए 122 करोड़ के कार्यादेश जारी || विद्युतीकरण से साल में होगी 150 करोड़ की बचत || कोलारस में कांग्रेस प्रत्याशी पुलिस के लाठीचार्ज में घायल || तेल व्यापारियों के यहां छापा मारने बाराती बनकर पहुंची आईटी टीम || राज्यपाल 3 सौ स्टूडेंट को आज देंगी स्कॉलरशिप || पीएससी: आधा दर्जन प्रश्नों के उत्तर गलत || अब फौरन पकड़े जाएंगे कॉलेजों में फर्जी दाखिले || बताएं, विश्वविद्यालयों में डिजिटलाइजेशन हुआ या नहीं || गर्मी के साथ खाकी वर्दी की आस्तीनें फिर उतरीं  || उपायुक्त राजपूत का तबादला, सागर स्मार्ट सिटी के सीईओ बने || स्वच्छता सर्वेक्षण टीम को लक्ष्मीगंज सब्जी मंडी में मिली गंदगी, तो टॉयलेट में मिला अंधेरा  || भयभीत गल्ला व्यापारियों ने काम बंद करने की घोषणा की || जिला स्तरीय अंत्योदय मेला फ्लॉप, दिव्यांगों ने किया हंगामा || 50 दुकानों के सामने से हटाया अवैध सामान || अंतिम छोर तक के व्यक्ति को मिले योजनाओं का लाभ : सिंह || महिलाएं बोलीं: मैडम बच्चों को पढ़ाने से रोकते है || मोबाइल झपटने वाले पकड़े || वन कर्मियों से मारपीट कर नक्सली घुस गए कान्हा में || महिला की एसिड पीने से मौत, अधेड़ ने जहर खाया || मोबाइल नं.वायरल होने से परेशान छात्रा ने पीया जहर || घनी आबादी में चल रहा फर्नीचर गोदाम खाक || नल लगे नहीं और 10 से 12 हजार रुपए का टैक्स पहुंचा दिया || महानगरी एक्सप्रेस में जहरखुरानी, 3 युवक शिकार || इंदौर से पीएम मोदी के नाम बच्चों ने लिखी पाती || शहर में 140 और शहर से बाहर 110 बसें चलाने की है योजना || एक युवा के जज्बे ने बदल दी 40 बेसहारा बच्चों की जिंदगी || बैरागढ़ स्टेशन आने वाली 15 ट्रेनों का टाइम बदला ||
© Copyright 2016 By Peoples Samachar.