20-09-2018 07:16:am
मालदीव ने भारत के आठवें खिताब का सपना तोड़ा || मोईन के ‘ओसामा’ संबंधी आरोपों की जांच करेगा क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया  || रहीम के शानदार शतक से बांग्लादेश की धमाकेदार जीत || त्रिपुरा: ग्राम पंचायत की 96% सीटों पर निर्विरोध जीते बीजेपी कैंडिडेट || बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री के घर चोरों ने लगाई सेंध || मुलायम सिंह को मैनपुरी से अपनी पार्टी से लोकसभा चुनाव लड़ाना चाहते हैं शिवपाल || शेल्टर होम रेप: शिवराज बोले- फांसी की सजा के दायरे में लाया जाएगा केस  || नन दुष्कर्म मामला: आरोपी बिशप ने छोड़ा पद  || सड़क पर टमाटर और अखबार बेचते दिखे अमिताभ बच्चन! || ज्वालामुखी माउंट पर सत्यरूप ने फहराया तिरंगा  || 350 अंतरराष्ट्रीय हॉकी मैचों के ‘सरदार ’ का संन्यास  ||

भोपाल उद्यानिकी एवं प्रक्षेत्र वानिकी विभाग को तीन बार कृषि विभाग में मर्ज करने की कोशिशें नाकाम होने से विभाग का अस्तित्व तो बच गया, लेकिन अच्छे दिनों की उम्मीद अभी भी धूमिल है। विभागीय सेटअप फाइनल होने में ही सालों बीत गए तो कर्मचारियों अधिकारियों की भर्ती नहीं हो सकी। इसके बाद पदोन्नति की नौबत आई भी तो बीते दो साल से पदोन्नति में आरक्षण मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट में राज्य सरकार की याचिका पर यथास्थिति के आदेश होन ेसे बिना पदोन्नति ही रिटायर होने का सिलसिला चल रहा है। ऐसे में अमला तो तेजी से कम हो रहा है, लेकिन नई भर्ती और पदोन्नति नहीं होने से खाली पदों की तादाद बढ़ती जा रही है। इसका सीधा असर यह हुआ है कि मौजूदा अमले पर चार से पांच गुना तक कार्यभार बढ़ चुका है।

जिस पद पर भर्ती, उसी से हो रहे हैं रिटायर

अमले की कमी से जूझ रहे उद्यानिकी विभाग में कर्मचारी संगठनों ने 2005 से अमला वृद्धि और पदों के संरचनात्मक ढांचे के सुदृढ़ीकरण की मांग बुलंद कर रखी हैं। शुरुआत में ग्रामीण उद्यान विस्तार अधिकारी के पद 1099 तथा उद्यान विकास अधिकारी के पदों की संख्या 79 थी, इसी 79 में से 10% सीधी भर्ती के थे। ऐसे में पदोन्नति वाले पद सिर्फ 69 पद ही बचे, जिससे ग्रामीण उद्यान विस्तार अधिकारी के पद से उद्यान विकास अधिकारी के पद पर पदोन्नति का अनुपात 1:15 बना रहा। नतीजे में 30 वर्ष से अधिक की सर्विस के बावजूद ग्रामीण उद्यान विस्तार अधिकारी संवर्ग पदोन्नति से वंचित रहा। अन्य संवर्गो में भी पदोन्नति की यही स्थिति है, क्योंकि जो अमला कृषि विभाग से उद्यानिकी विभाग में अन्तरित हुआ था, वह विभाग का नवीन सेटअप स्वीकृत न होने के कारण उसी पद पर कार्यरत रहते हुये सेवानिवृत्त हो रहा है। इसी से रिटायरमेंट के बाद बैकडेट से प्रमोशन की मांग हो रही है।

3600 पदों के लिए पहला संघर्ष और मिली जीत

कर्मचारी यूनियनों के अथक परिश्रम से 2008 में विभाग व्दारा नवीन सेटअप तैयार कर राज्य शासन को केबिनेट कमेटी से अनुमोदन कराने हेतु भेजा गया किन्तु चुनाव की अधिसूचना जारी होने के कारण स्वीकृत नही हो पाया। तदोपरान्त प्रस्तावित सेटअप प्रशासनिक स्तर पर कई प्रकार के संशोधन के दौर से गुजरता रहा लेकिन कर्मचारी यूनियनों के द्वारा इस लड़ाई को लगातार जारी रखने के कारण ठंडे बस्ते मे नहीं जा पाया और 2012 मे इस सेटअप को राज्य केबिनेट ने स्वीकृत कर दिया। नतीजे में इसमें 3600 पद स्वीकृत किए गए हैं।

भर्ती नियम तक के लिए आंदोलन

केबिनेट से पदों की स्वीकृति तो मिल गई लेकिन अब भर्ती नियमो मे संशोधन और समावेश कराने तक के लिए कर्मचारी नेताओं को आंदोलन का रास्ता अपनाना पड़ा फलस्वरूप वर्ष 2013 मे भर्ती नियम संशोधन हुआ और कर्मचारियों-अधिकारियों को पदोन्नति प्राप्त हो सकी । वरिष्ठ उद्यान विकास अधिकारियों के रिक्त पड़े लगभग 250 पदों को पदोन्नति से उद्यान विकास अधिकरियो से भरने के लिए उनकी अनुभव सीमा मे 2 वर्ष की विशेष छूट राज्य शासन की केबिनेट कमेटी द्वारा वर्ष 2015 में दी गई । इससे खाली हुए पदों पर ही भर्ती प्रक्रिया अपनाई गई।

राज्य सरकार की अपील पर स्टे के कारण अटकी पदोन्नति सूची

20 जनवरी 2016 को उद्यान विकास अधिकारियों की डीपीसी होने के बाद उच्चतम न्यायालय के स्थगन के कारण अटकी पदोन्नति सूची के परिप्रेक्ष्य में कर्मचारी नेताओं का प्रयास है कि पदोन्नति के पात्र होते हुए भी पदोन्नति से वंचित सेवानिवृत्त हो चुके लोकसेवकों को भी डीपीसी दिनांक से ही पदोन्नति का लाभ प्राप्त हो।

बजट के साथ बढ़ी जिम्मेदारी

1982 में उद्यानिकी विभाग का अलग विभागाध्यक्ष कार्यालय बनने के बाद प्रारंभिक वार्षिक बजट 11 करोड रूपए से बढकर 2012-13 मे 300 करोड़ हो गया था, जो अन्य केन्द्रीय योजनाओं के भाग को मिलाकर अब रूपए 500 करोड के लगभग हो गया है। विभाग का भौतिक लक्ष्य 3.50 लाख हेक्टेयर से बढकर 20 लाख हेक्टेयर हो चुका है। अनेक महत्वाकांक्षी योजनाओं का भी इतने ही सेटअप में सुचारू रूप से क्रियान्वयन हो रहा है।

विभाग बनने के समय से ही जूझ रहा अमले की कमी से

कृषि विभाग से 1982 मे अलग होकर बने उद्यानिकी एवं प्रक्षेत्र वानिकी विभाग को वापिस कृषि विभाग मे मर्ज करने हेतु वर्ष 1990 और 2003 के बाद 2009 में काफी प्रयास हुए, लेकिन विभाग के उद्यानिकी विशेषज्ञता धारित करने वाले अधिकारियों और कर्मचारियों ने अपने संघर्ष से विभाग को कृषि विभाग में मर्ज नही होने दिया तथा। नतीजे में उद्यानिकी विभाग आज तक अलग पहचान बनाए हुए है । 1982 में उद्यानिकी एवं प्रक्षेत्र वानिकी विभाग के अमले की तत्समय संख्या 4673 थी। युक्तियुक्तकरण की नीति के तहत वर्ष 2000 मे 30 प्रतिशत कटौती और छत्तीसगढ गठन के बाद पश्चातवर्ती मध्यप्रदेश में अमले की संख्या मात्र 3120 रह गई । अपने गठन के बाद अमले में बढ़ोत्तरी के बजाय कमी झेलने वाला यह प्रदेश का इकलौता विभाग है जबकि कार्यभार कई गुना बढा है। द्यानिकी विशेषज्ञता वाला होने के कारण विभागीय तकनीकी अमले पर काम का काफी बढ़ा तथा निचले स्तर पर मैदानी अमले का पदोन्नति से वंचित होना लगातार जारी है।

peoplessamachar
NEWS EXPRESS

0

 
सवा पांच किलो चांदी के गणेश जी 31 किग्रा के हुए, 51 किग्रा का है संकल्प || अफगानिस्तान ने भारतीय कंपनियों को आमंत्रित किया :  || मोदी ने स्वच्छता अभियान शुरू कर गांधी का सपना पूरा किया || सेंट्रल बैंक के क्षेत्रीय कार्यालय में हिन्दी दिवस समारोह आयोजित  || जन समस्याओं को लेकर सीएम को ज्ञापन भेजा || कांग्रेस ;हर नेता के अपने मुद्दे, अपनी-अपनी लड़ाई || आईबीपीएस ने 7275 क्लर्क के लिए निकाली वैकेंसी || अमेरिका में फ्लोरेंस तूफान ने मचाई तबाही, 1 महिला समेत 4 की मौत  || पेट्रोल-डीजल के स्थाई समाधान पर हो रहा विचार  || ऑनलाइन परीक्षा हैक करने के आरोप में दो गिरफ्तार || मंडी प्रशासन की सख्ती के बाद किसानों को प्याज का पेमेंट  || असिस्टेंट प्रोफेसरों की भर्ती में सत्यापन ही नियुक्ति नहीं || राजनाथ के आदेश पर आरोपी एसआई का बेटा गिरफ्तार || आरजीपीवी में वैज्ञानिक लेखन पर कार्यशाला || चिकित्सक कंप्यूटर पर पर्चे लिखें: हाईकोर्ट || अमेरिका में फ्लोरेन्स तूफान ने दस्तक देते ही बरपाया कहर, 1.50 लाख घरों की बिजली गुल  || चीन ने नए सैनिकों के लिए प्रशिक्षण अवधि दोगुनी की || अतिक्रमण से घिरा कोर्ट परिसर, सुरक्षा ताक पर || जम्मू-कश्मीर पहुंची ‘द फैमिली मैन’ की टीम || अमेरिका: कई विस्फोटों के चलते 39 इमारतों में आग || किसान मोर्चा 251 किसानों का करेगा सम्मान || सिटी बस-टेंपो में 6 रुपए और आॅटो रिक्शा में 30 रुपए किराया लगेगा || फिर निकला बोतल से नया बाजार का जिन्न || 17 से 25 तक चलेगा भाजपा का सेवा सप्ताह || रिटायर डीआईजी बोराना ने पेड़ पर लटकर दी जान || नेता-प्रतिपक्ष सिंह ने कहा मुख्यमंत्री को नोटिस दूंगा  || केंद्र से समय पर जारी नहीं की जाती है मनरेगा की राशि || एशिया कप में आगामी विश्वकप की तैयारी करने उतरेंगे एशियाई देश || स्लोवाकिया विश्व जूनियर कुश्ती में ताल ठोकेंगे भारत के 30 पहलवान  || चाकू अड़ाकर अपहरण का प्रयास || खाद्य अमले ने की दुकानों की जांच, लिए लड्डू के सैंपल || कनाडा में जाकर बस गए जांच अधिकारी के बयान दर्ज कराने का इंतजाम करे सीबीआई || बिल्डर ने तीन साल में भी बनाकर नहीं दिया घर,अब लौटाने होंगे 8 लाख रुपए || 10 सेकंड में बदमाशों ने तोड़ दिया लाखों की बुलेट का मजबूत लॉक || पथराव के बाद श्रीधाम एक्सप्रेस में बदमाशों ने की लूटपाट, हमले में कई मुसाफिर घायल || आॅर्डर पूरा नहीं करने पर दुकान छोड़कर गायब हुआ मूर्तिकार || जस्टिस गुप्ता बोले, जल और अन्न की बर्बादी रोकें || PHQ के एआईजी करेंगे डायल-100 में ड्यूटी || प्लेटफॉर्म पर पान-गुटखे की पीक मिली तो 15 हजार, काम में देरी होने पर हर माह कंपनी पर लगेगा 15 लाख का जुर्माना || आर्च ब्रिज बनाए जाने के लिए छोटे तालाब में भर दी सैकड़ों ट्रक मिट्टी || विघ्नहर्ता से भक्तों ने मांगी बाधाओं से मुक्ति || तलाकशुदा महिला का दैहिक शोषण कर रहे थे जीजा-साले || विधायक को खुश करने के लिए एसपी ने 307 मामले में समानांतर जांच चलार्इं || एडवोकेट एक्ट 1961 की धारा 34 खत्म हो || ट्रक की टक्कर से दो भाइयों की, पुलिस वैन से किशोर की मौत || केंद्रीय मंत्री तोमर करेंगे स्वच्छता पखवाड़े की शुरुआत || वन अमले पर हमला, विभाग ने कराई FIR ||
© Copyright 2016 By Peoples Samachar.