20-08-2018 02:05:pm
वावरिंका को हरा फेडरर सिनसिनाटी मास्टर्स के सेमीफाइनल में पहुंचे || भारतीय नौका चालक भोकानल की निगाहें स्वर्ण पदक पर || 16 साल की मनु भाकर पर रहेगा स्वर्णिम शुरुआत का दारोमदार || तेजस्वी ने मांगा एक और मंत्री का इस्तीफा || 11 साल की लड़की को अगवा कर किया गैंगरेप  || उप्र की 163 नदियों में विसर्जित की जाएंगी वाजपेयी की अस्थियां || ‘अपनी शाम अपनी जिंदगी के नाम’ करें कर्मचारी || आर्थिक संकट में पाक सरकार || सीमा पार से घुसपैठ की बड़ी कोशिश नाकाम || नरेंद्र दाभोलकर मर्डर केस में एक हमलावर गिरफ्तार || बाढ़-बारिश से कर्नाटक का बड़ा हिस्सा भी जलमग्न || 70 गौवंश को भरकर जा रहा ट्रक पकड़ाया, कई की मौत ||

मुरैना। प्रांतीय आह्वान पर बुधवार को मप्र शिक्षक संघ के बैनर तले सैकड़ों शिक्षकों ने धरना-प्रदर्शन किया और मुख्यमंत्री के नाम जिला प्रशासन को तीन सूत्रीय ज्ञापन सौंपा। वर्षों से लंबित पदोन्नति पदनाम, ई अटेंडेंस सभी विभागों में लागू करने, अध्यापक संवर्ग का एक विभाग एक कैडर में संविलियन की मांग को लेकर मप्र शिक्षक संघ के प्रांतव्यापी आंदोलन में सैकड़ों शिक्षक अध्यापकों ने आंदोलन में भाग लिया। जिले भर से आए शिक्षकों ने दोपहर 12 बजे से नेहरू पार्क पर धरना- प्रदर्शन किया। इसके बाद सभी शिक्षक 5 बजे नगर निगम परिसर में एकत्रित हुए यहां से 800 से अधिक शिक्षको ने रैली के रूप में कलेक्टोरेट पहुंचकर ज्ञापन सौंपा। नेहरू पार्क पर धरने को संबोधित करते हुए कहा कि ई अटेंडेंस व्यवस्था शिक्षकों के स्वाभिमान पर चोट है। सरकार शिक्षकों को चोर साबित करना चाहती है। शिक्षक स्वयं को अपमानित महसूस कर रहे है। शिक्षकां को ई अटेंडेंस से कोई परेशानी नहीं है, लेकिन जब तक अन्य विभागों में इसे लागू नहीं किया जाएगा, तब तक शिक्षक भी आॅनलाइन हाजरी नहीं लगाएंगे। सभी शिक्षकों को एंड्रोइड मोबाइल दिया जाए। जिलाध्यक्ष सिकरवार ने कहा कि 30 -35 साल के सेवाकाल सहायक शिक्षकों को एक भी पदोन्नति नहीं मिली है। सरकार के ढुलमुल रवैए के कारण हर साल हजारों शिक्षक अपने मूल नियुक्ति पद से रिटायर हो रहे है। 5 सितम्बर 2017 को मुख्यमंत्री ने वेतनमान अनुसार पदनाम देने की घोषणा की थी, जिसपर आज दिनांक तक अमल नहीं हुआ है। शिक्षकों ने नारेबाजी कर वादा खिलाफी का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि अध्यापक संवर्ग का संविलियन सहायक शिक्षक, शिक्षक, व्याख्याता पदनाम पर संशोधित किया जाए। जल्द निराकरण नहीं होने पर भोपाल में प्रदेश स्तरीय धरना आंदोलन किया जाएगा। आंदोलन को प्रांतीय उपाध्यक्ष रामबरन सिंह पायथा, श्यामवीर राठौर,धर्म सिंह तोमर, पवन परिहार ने भी संबोधित किया। इस अवसर आंदोलन में मुख्य रूप से उमेश पाठक विमलेश यादव, रामवरन सिकरवार, रघुराज परमार, रामस्रेही शर्मा, टीआर मांडिल, रामौतार सिकरवार, आईपीएस भदौरिया, मधुलता तोमर, बिहारी तोमर, रश्मि भदौरिया सहित 800 से अधिक शिक्षक अध्यापक मौजूद रहे।

peoplessamachar
NEWS EXPRESS

0

 
दोबारा होगा फ्लाई ओवर का आॅन लाइन ग्लोबल टेंडर || आयुर्वेद कॉलेज छात्रों ने की भूख हड़ताल || प्रचार के लिए शासकीय संपत्तियों पर ‘माननीयों ’का कब्जा! || 3 हजार मकानों को हटाने का दारोमदार राजस्व अमले पर || सीएम हेल्पलाइन : निगमायुक्त ने 2 घंटे बैठकर जानी हकीकत || डेंगू-चिकनगुनिया का हमला, हजारों चपेट में || केन्ट पार्षद व ड्राफ़्ट मैन के बीच विवाद, नोटिस दिया || नेत्रहीन नाबालिग को अगवा कर रहे बदमाश का विरोध किया तो सिर पर तलवार मारी || बांध का जल स्तर नहीं हो रहा कम, खुले है पांच गेट || निगम ने कई स्थानों से हटाए अवैध बैनर, होर्डिंग्स व पोस्टर || अपोलो हॉस्पिटल इंदौर ने डायल 22 लांच की, इन-पेशेंट केयर का स्तर बढ़ाया || सुल्तानगढ़ हादसा: 40 लोगों की जान बचाने वाले जांबाजों का सम्मान || छह जुआरियों से तेईस हजार 300 रुपए जब्त || 4 हड़ताली छात्रों की हालत बिगड़ी, आईसीयू में भर्ती || डकैती की साजिश रचते हथियार सहित पांच गिरफ्तार || विस चुनाव तक नहीं बनेगी घमापुर-रांझी फोरलेन रोड || इंजीनियरिंग की आधी से ज्यादा सीटें खाली, 6 कॉलेजों में एडमिशन जीरो ||
© Copyright 2016 By Peoples Samachar.