20-08-2018 07:53:pm
वावरिंका को हरा फेडरर सिनसिनाटी मास्टर्स के सेमीफाइनल में पहुंचे || भारतीय नौका चालक भोकानल की निगाहें स्वर्ण पदक पर || 16 साल की मनु भाकर पर रहेगा स्वर्णिम शुरुआत का दारोमदार || तेजस्वी ने मांगा एक और मंत्री का इस्तीफा || 11 साल की लड़की को अगवा कर किया गैंगरेप  || उप्र की 163 नदियों में विसर्जित की जाएंगी वाजपेयी की अस्थियां || ‘अपनी शाम अपनी जिंदगी के नाम’ करें कर्मचारी || आर्थिक संकट में पाक सरकार || सीमा पार से घुसपैठ की बड़ी कोशिश नाकाम || नरेंद्र दाभोलकर मर्डर केस में एक हमलावर गिरफ्तार || बाढ़-बारिश से कर्नाटक का बड़ा हिस्सा भी जलमग्न || 70 गौवंश को भरकर जा रहा ट्रक पकड़ाया, कई की मौत ||

भोपाल ।   नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने के मामले में राज्यपाल आनंदी बेन पटेल तथा विस अध्यक्ष डॉ. शर्मा को पत्र लिखकर कहा कि विधानसभा को कठपुतली बना दिया गया है। अपने पत्र में सिंह ने कहा, यह सत्र 29 जून तक चलना था, जिसे दो दिन बाद ही 26 जून को ही अनिश्चितकाल तक के लिए स्थगित कर दिया गया। अब 42 दिन बाद फिर से विधानसभा का अकारण एक दिन का विषेष सत्र बुलाया जाना बताता है कि सरकार ने विधानसभा को कठपुतली बनाकर रख दिया है। उन्होंने कहा कि विशेष सत्र केवल विदाई देने और द्वितीय अनुपूरक बजट मंजूर कराने की मंशा से लाया जा रहा है।सुप्रीमकोर्ट द्वारा मप्र में रेप की घटनाओं को लेकर किए गए कमेंट्स पर नेता प्रतिपक्ष ने सुप्रीमकोर्ट की बात का समर्थन किया। उन्होंने प्रदेश में लगाए गए रोजगार मेलों का मजाक उड़ाते हुए कहा कि जब स्वर्गीय सुंदरलाल पटवा प्रदेश के मुख्यमंत्री थे, तब उन्होंने ने भी चुनाव से ऐन पहले 5 हजार युवाओं को नौकरी पर रखने का आदेश दिया था, परन्तु उस आदेश में नियुक्ति विस चुनाव बाद होने की लिखी थी। नेता प्रतिपक्ष ने इसे बेरोजगारों के साथ मजाक करने की संज्ञा दी। वहीं नगरीय निकायों में पार्षदों के चुनाव में कांग्रेस को मिली सफलता पर अजय सिंह ने कहा कि यह परिवर्तन की लहर है। प्रदेश सरकार से जनता ऊब चुकी है।

सत्र बुलाने के लिए सदन के नेता से बात की जाती है, प्रतिपक्ष से नहीं

विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीतासरन शर्मा ने कहा कि मैंने उनसे केवल विदाई सत्र (फोटोग्राफ) के लिए बात की थी न कि विशेष सत्र बुलाने की। उन्होंने कहा कि अजय सिंह बात का बतंगड़ बना रहे हैं। सत्र बुलाने के लिए सदन के नेता से बात की जाती है न कि नेता प्रतिपक्ष से। उन्होंने कहा कि अजय सिंह या तो गलतफहमी के शिकार हैं या जानबूझकर इस मामले को तूल दे रहे हैं। इससे पहले नेता प्रतिपक्ष ने मंगलवार को पत्रकारों से चर्चा करते हुए बताया कि उन्होंने इस मुद्दे पर राज्यपाल आनंदी बेन पटेल तथा विधानसभाध्यक्ष को लिखे पत्र में कहा है कि 25 जून को विधानसभा का इतिहास का सबसे छोटा पावस सत्र आहूत किया गया था।

peoplessamachar
NEWS EXPRESS

0

 
दोबारा होगा फ्लाई ओवर का आॅन लाइन ग्लोबल टेंडर || आयुर्वेद कॉलेज छात्रों ने की भूख हड़ताल || प्रचार के लिए शासकीय संपत्तियों पर ‘माननीयों ’का कब्जा! || 3 हजार मकानों को हटाने का दारोमदार राजस्व अमले पर || सीएम हेल्पलाइन : निगमायुक्त ने 2 घंटे बैठकर जानी हकीकत || डेंगू-चिकनगुनिया का हमला, हजारों चपेट में || केन्ट पार्षद व ड्राफ़्ट मैन के बीच विवाद, नोटिस दिया || नेत्रहीन नाबालिग को अगवा कर रहे बदमाश का विरोध किया तो सिर पर तलवार मारी || बांध का जल स्तर नहीं हो रहा कम, खुले है पांच गेट || निगम ने कई स्थानों से हटाए अवैध बैनर, होर्डिंग्स व पोस्टर || अपोलो हॉस्पिटल इंदौर ने डायल 22 लांच की, इन-पेशेंट केयर का स्तर बढ़ाया || सुल्तानगढ़ हादसा: 40 लोगों की जान बचाने वाले जांबाजों का सम्मान || छह जुआरियों से तेईस हजार 300 रुपए जब्त || 4 हड़ताली छात्रों की हालत बिगड़ी, आईसीयू में भर्ती || डकैती की साजिश रचते हथियार सहित पांच गिरफ्तार || विस चुनाव तक नहीं बनेगी घमापुर-रांझी फोरलेन रोड || इंजीनियरिंग की आधी से ज्यादा सीटें खाली, 6 कॉलेजों में एडमिशन जीरो ||
© Copyright 2016 By Peoples Samachar.