20-08-2018 07:55:pm
वावरिंका को हरा फेडरर सिनसिनाटी मास्टर्स के सेमीफाइनल में पहुंचे || भारतीय नौका चालक भोकानल की निगाहें स्वर्ण पदक पर || 16 साल की मनु भाकर पर रहेगा स्वर्णिम शुरुआत का दारोमदार || तेजस्वी ने मांगा एक और मंत्री का इस्तीफा || 11 साल की लड़की को अगवा कर किया गैंगरेप  || उप्र की 163 नदियों में विसर्जित की जाएंगी वाजपेयी की अस्थियां || ‘अपनी शाम अपनी जिंदगी के नाम’ करें कर्मचारी || आर्थिक संकट में पाक सरकार || सीमा पार से घुसपैठ की बड़ी कोशिश नाकाम || नरेंद्र दाभोलकर मर्डर केस में एक हमलावर गिरफ्तार || बाढ़-बारिश से कर्नाटक का बड़ा हिस्सा भी जलमग्न || 70 गौवंश को भरकर जा रहा ट्रक पकड़ाया, कई की मौत ||

वाशिंगटन। फेफड़ों, पेट और गर्भाशय समेत कई तरह के कैंसर में इस्तेमाल होने वाली कीमोथेरेपी की एक दवा हृदय में विषाक्तता की वजह बन सकती है। इसके चलते हार्ट फेल होने की नौबत तक आ सकती है। एक भारतवंशी समेत शोधकर्ताओं के दल ने इसके प्रति आगाह किया है। अमेरिका की अलबामा यूनिवर्सिटी के शोधकतार्ओं के अनुसार, अध्ययन में पाया गया कि डॉक्सोरुबिसिन दवा से मेटाबोलिज्म गड़बड़ा सकता है। यह मेटाबोलिज्म प्लीहा और हृदय की इम्यून प्रतिक्रियाओं को नियंत्रित करता है। ये इम्यून प्रतिक्रियाएं हृदय को दुरुस्त रखने और सूजन को नियंत्रित करने के लिए महत्वपूर्ण होती हैं। अलबामा के असिस्टेंट प्रोफेसर गणोश हलदी के नेतृत्व में शोधकर्ताओं ने इम्यूनमेटाबोजिल्म पर डॉक्सोरुबिसिन के प्रभाव का पता लगाने के लिए चूहों पर अध्ययन किया। इस दवा के चलते हृदय की रक्त पंप करने की क्षमता पर असर पाया गया। शोधकतार्ओं ने कहा कि दवा के चलते प्लीहा और हृदय के वजन में कमी भी पाई गई।  

दिल की बीमारियों से दोगुनी व कैंसर से तीन गुना बढ़ीं मौतें

प्रदूषण पर विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की रिपोर्ट आने के बाद स्वास्थ्य पर प्रदूषण के दुष्प्रभाव की चर्चा एक बार फिर शुरू हो गई है। डब्ल्यूएचओ ने अपनी रिपोर्ट में आगाह किया है कि प्रदूषण सांस की बीमारियों के अलावा हृदय व फेफड़े के कैंसर से होने वाली मौतों का भी बड़ा कारण बन रहा है। इस बीच दिल्ली में मृत्यु पंजीकरण रिपोर्ट के आंकड़ों से यह बात सामने आई है कि दिल्ली में पिछले 12 सालों में दिल की बीमारियों से मौत के मामले दोगुने बढ़े हैं। वहीं कैंसर से होने वाली मौतों में करीब तीन गुना वृद्धि देखी जा रही है। विशेषज्ञ इन बीमारियों के बढ़ने का एक बड़ा कारण प्रदूषण को मान रहे हैं। दिल्ली में हृदय की बीमारी मौत का सबसे बड़ा कारण है। वर्ष 2016 में हार्ट अटैक व हृदय की बीमारियों से 16,665 लोगों की मौत हुई, जिसमें 15,919 लोगों की मौत अस्पतालों में हुई थी। पहले दिल्ली में कैंसर से हर साल करीब दो हजार लोगों की मौत होती थी मगर अब यह आंकड़ा बढ़कर 6000 के आसपास पहुंच गया है। वर्ष 2011 में ऐसा भी वक्त था जब यहां कैंसर से 9925 मरीजों की मौत हुई थी।

peoplessamachar
NEWS EXPRESS

0

 
दोबारा होगा फ्लाई ओवर का आॅन लाइन ग्लोबल टेंडर || आयुर्वेद कॉलेज छात्रों ने की भूख हड़ताल || प्रचार के लिए शासकीय संपत्तियों पर ‘माननीयों ’का कब्जा! || 3 हजार मकानों को हटाने का दारोमदार राजस्व अमले पर || सीएम हेल्पलाइन : निगमायुक्त ने 2 घंटे बैठकर जानी हकीकत || डेंगू-चिकनगुनिया का हमला, हजारों चपेट में || केन्ट पार्षद व ड्राफ़्ट मैन के बीच विवाद, नोटिस दिया || नेत्रहीन नाबालिग को अगवा कर रहे बदमाश का विरोध किया तो सिर पर तलवार मारी || बांध का जल स्तर नहीं हो रहा कम, खुले है पांच गेट || निगम ने कई स्थानों से हटाए अवैध बैनर, होर्डिंग्स व पोस्टर || अपोलो हॉस्पिटल इंदौर ने डायल 22 लांच की, इन-पेशेंट केयर का स्तर बढ़ाया || सुल्तानगढ़ हादसा: 40 लोगों की जान बचाने वाले जांबाजों का सम्मान || छह जुआरियों से तेईस हजार 300 रुपए जब्त || 4 हड़ताली छात्रों की हालत बिगड़ी, आईसीयू में भर्ती || डकैती की साजिश रचते हथियार सहित पांच गिरफ्तार || विस चुनाव तक नहीं बनेगी घमापुर-रांझी फोरलेन रोड || इंजीनियरिंग की आधी से ज्यादा सीटें खाली, 6 कॉलेजों में एडमिशन जीरो ||
© Copyright 2016 By Peoples Samachar.