20-08-2018 12:09:pm
वावरिंका को हरा फेडरर सिनसिनाटी मास्टर्स के सेमीफाइनल में पहुंचे || भारतीय नौका चालक भोकानल की निगाहें स्वर्ण पदक पर || 16 साल की मनु भाकर पर रहेगा स्वर्णिम शुरुआत का दारोमदार || तेजस्वी ने मांगा एक और मंत्री का इस्तीफा || 11 साल की लड़की को अगवा कर किया गैंगरेप  || उप्र की 163 नदियों में विसर्जित की जाएंगी वाजपेयी की अस्थियां || ‘अपनी शाम अपनी जिंदगी के नाम’ करें कर्मचारी || आर्थिक संकट में पाक सरकार || सीमा पार से घुसपैठ की बड़ी कोशिश नाकाम || नरेंद्र दाभोलकर मर्डर केस में एक हमलावर गिरफ्तार || बाढ़-बारिश से कर्नाटक का बड़ा हिस्सा भी जलमग्न || 70 गौवंश को भरकर जा रहा ट्रक पकड़ाया, कई की मौत ||

भोपाल । अवधपुरी स्थित क्रिस्टल आईडल सिटी के मकान नंबर -172 में रहने वाला अश्विनी शर्मा, इस डुप्लेक्स में दिव्यांग लड़कियों के लिए आरती नामक हॉस्टल चलाता था। किराए के इस बंगले में वह छह माह पहले ही शिμट हुआ था, इससे पहले वह लड़कियों के साथ उसके सामने वाली बिल्डिंग में रहता था। बीते पांच दिनों से सभी छात्राएं दिखाई नहीं दे रही हैं। उन्हें घर भेज दिया गया है। यह कहना है क्रिस्टल कॉलोनी में रहने वाले लोगों का। दीवान सिंह ने बताया कि वे तीन साल से यहां रह रहे हैं। यहां हॉस्टल चलता था। 9 से 13 लड़कियां मूक बधिर थीं। वे कई दिनों से दिखाई नहीं दे रहीं। शाम के समय कुछ लड़कियां सड़कों पर घूमती भी थीं। मनीष वर्मा ने बताया कि मैं तो यहां छह माह पहले ही इस कॉलोनी में शिμट हुआ हूं। बच्चियां रहती थीं, लेकिन वह कहां गर्इं, यह जानकारी नहीं है। अश्विनी कुमार शर्मा कभी कभार मिल जाया करता था, लेकिन उससे हॉस्टल और लड़कियों के संबंध में कोई चर्चा नहीं होती थी। हालांकि गार्ड और कुछ लोग नाम न छापने की शर्त पर बताते हैं कि हॉस्टल संचालक अश्विनी के साथ पड़ोस की महिला भी दिखाई देती थी। वह लिμट मांगकर मुख्य मार्ग तक कई बार अश्विनी के वाहन में जाती थी। हालांकि कॉलोनी का कोई व्यक्ति यह नहीं बता पा रहा है कि लड़कियों के साथ अश्विनी कुमार शर्मा किसी प्रकार की कोई हरकत करता पाया गया। अश्विनी ने जिस बंगले में हॉस्टल खोल रखा था, वह अजय रायखेरे का है।

लड़कियों को गाड़ी से खुद छोड़ने जाता था कॉलेज

क्रिस्टल कॉलोनी में रहने वाले एक लड़के और ढबरे वाले ने बताया कि अश्विनी, दिव्यांग लड़कियों को अपनी गाड़ी से आईटीआई छोड़ने जाता था। मूक-बधिर बच्चियां होने के चलते वे किसी से बात नहीं कर सकती थीं और न किसी को उनकी बात समझ में आती थी। इसके चलते किसी को पता नहीं चलता था।

पत्नी और बेटे के नाम पर चला रहा था हॉस्टल

अश्विनी शर्मा के दो होस्टल हैं। एक ब्वॉयज और दूसरा गर्ल्स। ब्वॉयज हॉस्टल का नाम कृतार्थ है, क्योंकि बेटा भी दिव्यांग है। यह आयोध्या बायपास स्थित राजीव नगर में हैं। दूसरा गर्ल्स हॉस्टल क्रिस्टल आईडल सिटी में पत्नी अनीता के नाम से है। अश्विनी कहता था कि उसका बेटा दिव्यांग है, इसलिए हॉस्टल खोले हैं।

हॉस्टल के बच्चे खाने को लेकर करते थे शिकायत

अश्विनी शर्मा वर्ष 2016-17 में चर्चा में आया था, जब उन्हें पूर्व कलेक्टर निशांत वरवड़े ने 52 दिव्यांग छात्र-छात्राओं को रखने को कहा था। सभी को अश्विनी ने कृतार्थ हॉस्टल में रखा था। खाने में गड़बड़ी को लेकर दिव्यांग दो बार कलेक्टोरेट में धरना दे चुके हैं। सामाजिक न्याय विभाग ने व्यवस्था दुरुस्त कराई थी। जनवरी 2017 में सभी बच्चों की परीक्षा खत्म होने के बाद विभाग ने इस हॉस्टल से हाथ खींच लिए थे और छात्रों के रहने, खाने, पढ़ाई राशि सीधे आईटीआई व दिव्यांगों के खाते में जमा की जाती थी।

17 साल की उम्र में पीड़ित युवती आई थी भोपाल

डीआईजी धर्मेंद्र चौधरी ने बताया कि पीड़ित युवती 2016 में हॉस्टल पहुंची थी, तब वह 17 साल की थी। एक साल का आईटीआई कोर्स पूरा होने के बाद भी वह हॉस्टल में रह रही थी और सिलाई-कढ़ाई सीख रही थी। इस बीच अश्विनी ने उसके साथ छेड़छाड़ की और दो-तीन बार दुष्कर्म किया। धार पहुंचकर पीड़िता ने परिजनों को बताया तो वे उसे लेकर इंदौर में ज्ञानेंद्र पुरोहित के पास पहुंचे। पुरोहित दंपति साइन लैंग्वेज जानते हैं। उन्होंने जब इस बारे में बताया तो उन्हें एफआईआर दर्ज कराने की सलाह दी।

peoplessamachar
NEWS EXPRESS

0

 
दोबारा होगा फ्लाई ओवर का आॅन लाइन ग्लोबल टेंडर || आयुर्वेद कॉलेज छात्रों ने की भूख हड़ताल || प्रचार के लिए शासकीय संपत्तियों पर ‘माननीयों ’का कब्जा! || 3 हजार मकानों को हटाने का दारोमदार राजस्व अमले पर || सीएम हेल्पलाइन : निगमायुक्त ने 2 घंटे बैठकर जानी हकीकत || डेंगू-चिकनगुनिया का हमला, हजारों चपेट में || केन्ट पार्षद व ड्राफ़्ट मैन के बीच विवाद, नोटिस दिया || नेत्रहीन नाबालिग को अगवा कर रहे बदमाश का विरोध किया तो सिर पर तलवार मारी || बांध का जल स्तर नहीं हो रहा कम, खुले है पांच गेट || निगम ने कई स्थानों से हटाए अवैध बैनर, होर्डिंग्स व पोस्टर || अपोलो हॉस्पिटल इंदौर ने डायल 22 लांच की, इन-पेशेंट केयर का स्तर बढ़ाया || सुल्तानगढ़ हादसा: 40 लोगों की जान बचाने वाले जांबाजों का सम्मान || छह जुआरियों से तेईस हजार 300 रुपए जब्त || 4 हड़ताली छात्रों की हालत बिगड़ी, आईसीयू में भर्ती || डकैती की साजिश रचते हथियार सहित पांच गिरफ्तार || विस चुनाव तक नहीं बनेगी घमापुर-रांझी फोरलेन रोड || इंजीनियरिंग की आधी से ज्यादा सीटें खाली, 6 कॉलेजों में एडमिशन जीरो ||
© Copyright 2016 By Peoples Samachar.