24-06-2018 10:36:pm
नेटफ्लिक्स के सीसीओ को नौकरी से निकाला  || सुषमा स्वराज ने बेल्जियम के डिप्टी पीएम से की भेंट || एमयू का कद घटाने बनाया दबाव || अमेरिका के वैज्ञानिकों ने तैयार किया दुनिया का सबसे छोटा कम्प्यूटर || एयर इंडिया के सर्वर में खराबी से 23 उड़ानों में देरी  || अमेरिका से भारत खरीदेगा 1,000 नागरिक विमान || वॉट्सएप की सेवा शर्तों और गोपनीयता नीति में बदलाव || मोदी सरकार के कार्यकाल के दौरान कई बैकिंग धोखाधड़ी के मामले सामने आए  || नॉकआउट में जगह बनाने के लिए मेसी एंड कंपनी ने जमकर बहाया पसीना || माल्या के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी  || ट्रंप के होटल का शराब लाइसेंस रद्द करने की मांग- ||

भोपाल ।   बलात्कार के एक मामले में मप्र राज्य महिला आयोग ने दो निर्दोषों को समन भेज दिया। आयोग की इस गलती के चलते दोनों को 15 दिन तक पुलिस, समाज और परिवार के लोगों की प्रताड़ना झेलनी पड़ी। हालांकि बाद में आवेदिका के बयान के बाद समन निरस्त कर दिया गया है। जानकारी के अनुसार, आईएसबीटी के पास कस्तूरबा नगर बस्ती निवासी ममता बाई (परिवर्तित नाम) ने आयोग को शिकायत की थी कि उसके पड़ोस में रहने वाले चरन सिंह, पवन और कल्लू ने उसकी बेटी से ज्यादती की थी। उसका आरोप था कि पुलिस ने शिकायत दर्ज नहीं की। इसलिए हुई गफलत दरअसल, घटना रायसेन जिले के बरेली की है और फरियादी ने आयोग को की गई अपनी शिकायत में आईएसबीटी के पास कस्तूरबा नगर बस्ती भोपाल का पता दर्ज कराया था। फरियादी ने आरोपियों के तीन नाम दर्ज कराएथे। इनमें चरन सिंह, पवन और कल्लू शामिल हैं। चरन सिंह, पवन नाम के युवक भोपाल में फरियादी महिला के पड़ोसी हैं, वहीं उसकी बेटी के पड़ोस में रहने वाले मुख्य आरोपियों के नाम भी चरन ठाकुर उर्फ पुरविया और पवन ठाकुर हैं। आरोपियों के नाम और महिला के आवेदन में दिए गए भोपाल के पते से ऐसी गफलत पैदा हुई कि आयोग ने भोपाल एसपी के जरिए चरन सिंह, पवन और कल्लू के नाम समन जारी कर दिया।

आयोग ने समाज, परिवार की नजर मेें चरित्रहीन बना दिया

आयोग की गलती का शिकार बने चरन सिंह मेहरा और पवन यादव ने बताया कि 15 दिन पहले उनको रेप के मामले में सुनवाई में हाजिर होने के लिए आयोग से भेजा गया समन मिला। उन्होंने आयोग को गलत समन मिलने की बात बताई, लेकिन वहां से कहा गया कि जो भी कहना है पेशी के दौरान कहना। जब फरियादी कहेगी कि तुम आरोपी नहीं हो, तभी समन कैंसिल होगा। उनका कहना है कि समन मिलने के बाद से पुलिस वाले घर आने लगे, जिससे उनकी सामाजिक छवि खराब हो गई। पत्नी- बच्चों ने भी बात करना बंद कर दी। उनका खाना-पीना हराम हो गया और वह काम-धंधे पर नहीं जा सके।

peoplessamachar
NEWS EXPRESS

0

 
पीतांबरा पीठ से निकलते ही यमुना प्राधिकरण के पूर्व सीईओ गिरफ्तार || डेढ़ साल की मासूम का किया अपहरण, बेचने की थी कोशिश || सतना में डकैत को तलाशने गई पुलिस पार्टी का 1 जवान लापता || जालसाज पायल सैम्युअल पर गोविंदपुरा थाने में भी केस || न एईओ नियुक्त हुए और न सरकारी स्कूलों की दशा सुधरी || सालों 18 किलोमीटर पैदल किया सफर, बन गई जेलर || 4,000 सफाई कर्मियों को ले गए इंदौर इधर, शहर में न झाड़ू लगी न कचरा उठा || प्रीमियम ट्रेनों के पहले नहीं चलेंगी सुपरफास्ट ट्रेनें || 47 वार्डों में 540 लोगों को कराया गृह प्रवेश || स्वच्छता सर्वेक्षण में ग्वालियर का 28 वां स्थान, अवार्ड गंवाया || काउंसलिंग में पहुंचे 129 प्रतिभागी, मिले ट्रेनिंग लेटर || परिवारिक विवादों की सुनवाई परामर्शदाता करेंगे || अजिता वाजपेयी पांडेय पहुंचीं कांग्रेस दफ़तर  || सदन में अपनी ही सरकार को फिर घेरने को तैयार गौर || पिता की अस्थियां घर के गार्डन में गाड़कर लगा दिए पौधे, ताकि पिता का अहसास हमेशा के लिए जिंदा रहे || वरिष्ठ कांग्रेसियों से जमीनी हकीकत जानेंगे : कमलनाथ् || बताओ न्यायालय के आदेश की नाफरमानी क्यों? || 1750 परिवारों ने किया गृह प्रवेश || जिरह में ठीक से जवाब नहीं दे पाई रेप पीड़िता, दुखी होकर लगा ली फांसी || मल्टीलेवल पार्किंग में अब तक नहीं लगी लिफ्ट , फायर सिस्टम भी अधूरा || पीजी की 67 हजार 500 सीटों का आवंटन आज ||
© Copyright 2016 By Peoples Samachar.